ऑपरेशन के दौरान सफाईकर्मचारियों के हाथों से लिए सर्जरी के उपकरण, इंफेक्शन तो फैलना ही

बिलासपुर।मस्तूरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में इस माह की शुरुआत में हुई 6 महिलाओं की नसबंदी के बाद इंफेक्शन फैलना ही था। क्योंकि ऑपरेशन थिएटर की साफ-सफाई नहीं थी और जो ऑपरेशन में शामिल हुए उन्होंने ही ओटी में हल्की-फुल्की सफाई भी की थी। इसका परिणाम यह हुआ कि महिलाओं में इंफेक्शन फैल गया और उनकी जान पर बन आई।
इंफेक्शन फैला और अखबारों में खबर छपी तो खुद मुख्यमंत्री ने पूछताछ की। तब सीएमएचओ डा. भारत भूषण बोर्डे मस्तूरी गए। जिला अस्पताल में दोबारा महिलाओं का चेकअप हुआ लेकिन इंफेक्शन अब भी फैल रहा है। दो महिलाओं को फिर से जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है।
– नसबंदी का ऑपरेशन कराने वाली दो महिलाएं पुष्पा केंवट तथा यशोदाबाई को तीसरी बार टांके लगाए गए हैं। दर्द हो रहा है जिस पर काबू पाने के लिए सोमवार रात 9 बजे उन्हें इंजेक्शन लगाए गए। इनके साथ दुधमुंहे बच्चे तथा इनके पति भी अस्पताल में ही हैं। भास्कर संवाददाता ने महिलाआें से बात की तो कई नए खुलासे हुए।
2 और 5 अगस्त को हुई थी 6 महिलाओं की नसबंदी
मस्तूरी प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में 2 और 5 अगस्त को 6 महिलाओं की नसबंदी के ऑपरेशन किए गए थे। 9 अगस्त को महिलाएं इंफेक्शन की बात कहते हुए पीएचसी पहुंची। पर यहां पदस्थ महिला डॉक्टर शीला साहा उस दिन प्रधानमंत्री सुरक्षित मातृत्व योजना की बैठक में शामिल होने के लिए मरवाही गईं थीं। इसलिए वहां मौजूद स्टाफ ने ही महिलाओं की ड्रेसिंग कर वहां से रवाना कर दिया। मामला बिगड़ते देख सीएमएचओ डा. भारत भूषण बोर्डे वहां पहुंचे और महिलाओं को एकत्रित कर जिला अस्पताल भेज दिया। यहां सभी की स्त्री रोग विशेषज्ञ ने जांच की अौर फिर वापस भेज दिया।

Leave a Response