10वीं, 12वीं बोर्ड के नतीजे घोषित, बालिकाओं ने फिर बाजी मारी

दोनों परीक्षाओं में पौने छह लाख परीक्षार्थियों ने लिया था हिस्सा

10वीं टापर योगेश ने जशपुर कलेक्टर का सपना पूरा किया

  • छत्तीसगढ़ माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिमं) ने आज 10वीं और 12वीं बोर्ड परीक्षा के  परिणाम पहली बार एक साथ घोषित किए। जशपुर के योगेश सिंह चौहान ने 10वीं में 98.33 प्रतिशत अंक लाकर टॉप किया है, वहीं 12वीं में 98.4 प्रतिशत अंक हासिल कर बलौदाबाजार के शिवकुमार पांडेय ने मेरिट में पहले स्थान पर जगह बनाई। योगेश जिला खनिज न्यास द्वारा  चलाए जा रहे कोचिंग इंस्टीट्यूट ‘संकल्प’ का छात्र है, इसे जशपुर कलेक्टर प्रियंका शुक्ला की पहल पर स्थापित किया गया है।

10वीं बोर्ड परीक्षा 5 मार्च से शुरू होकर 28 अप्रैल तक चली थी, जबकि 12वीं परीक्षा 7 मार्च से 2 अप्रैल तक ली गई थी। 10वीं में इस बार करीब 3.96 लाख विद्यार्थी थे, जबकि 12वीं में 2 लाख 72 हजार ने परीक्षा दी।

राजधानी रायपुर में आज सुबह दस बजे स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने परीक्षा परिणामों की घोषणा की। माध्यमिक शिक्षा मंडल की वेबसाइट www.cgbse.nic पर दोनों कक्षाओं के परिणाम भी इसी समय जारी कर दिए गए।

12वीं मुख्य परीक्षा का परिणाम 77 प्रतिशत रहा। इस परीक्षा में 79.40 प्रतिशत बालिकाओं ने और 74.45 प्रतिशत बालकों ने सफलता हासिल की। कक्षा दसवीं की हाईस्कूल सर्टिफिकेट मुख्य परीक्षा 2018 का परिणाम 68.04 प्रतिशत रहा, जिसमें बालिकाओं का प्रतिशत 69.44  तथा बालकों का प्रतिशत 66.42 है। हायर सेकेण्डरी सर्टिफिकेट मुख्य परीक्षा 2018 में कुल 2 लाख 73 हजार 13 विद्यार्थी पंजीकृत थे। इनमें से दो लाख 70 हजार 43 विद्यार्थी परीक्षा में शामिल हुए।


एक लाख 31 हजार 234 बालकों सहित एक लाख 38 हजार 809 बालिकाएं इनमें शामिल थीं। परीक्षा में उत्तीर्ण परीक्षार्थियों की संख्या दो लाख 7 हजार 111 है। इनमें उत्तीर्ण बालिकाओं का प्रतिशत 79.40 तथा बालकों का प्रतिशत 74.45 रहा। सम्मिलित परीक्षार्थियों में प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण परीक्षार्थियों की संख्या 69100 है, द्वितीय श्रेणी में उत्तीर्ण परीक्षार्थियों की संख्या 100518 और तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण परीक्षार्थियों की संख्या 36 हजार 732 है। 761 परीक्षार्थियों को पास की श्रेणी में घोषित किया गया है।

नतीजों के अनुसार बारहवीं बोर्ड में 29 हजार 104 परीक्षार्थियों को पूरक की पात्रता दी गई है। कुल 295 परीक्षार्थियों के परिणाम विभिन्न कारणों से रोके गयें हैं और 723 परीक्षार्थियों के परीक्षाफल निरस्त किए गए हैं।

स्कूल शिक्षा विभाग के आदेश के अनुसार वर्ष 2018 की बारहवीं बोर्ड की परीक्षा में एक हजार 014 परीक्षार्थियों को खेलकूद में 173 परीक्षार्थियों को स्काउट-गाइड में, एक परीक्षार्थी को एनसीसी, 2 परीक्षार्थियों को राष्ट्रीय सेवा योजना (एनएसएस) में तथा 108 अनुदेशकों को साक्षर भारत अभियान में बोनस अंक का लाभ प्रदान किया गया है। कुल 1298 परीक्षार्थियों को बोनस अंक दिए गए हैं।

इस अवसर पर बताया गया कि हायर सेकेण्डरी परीक्षा वर्ष 2018 के संबंधित विषय में 80 प्रतिशत से ज्यादा अंक पाने वाले 994 परीक्षार्थियों का द्वितीय मूल्यांकन अपरिहार्य कारणों से नहीं किया जा सका। इनको निःशुल्क द्वितीय मूल्यांकन की पात्रता होगी। द्वितीय मूल्यांकन के अंकों में कम या ज्यादा पाए जाने पर संशोधित परीक्षा परिणाम और अंकसूची दोनों मूल्यांकनों के प्राप्तांकों के औसत आधार पर जारी किया जाएगा, जो परीक्षार्थियों को स्वीकार्य होगा।
मण्डल द्वारा आयोजित हायर सेकेण्डरी व्यावसायिक परीक्षा वर्ष 2018 में कुल 1859 परीक्षार्थी पंजीकृत हुए, इनमें से 1849 परीक्षार्थी परीक्षा में सम्मिलित हुए, जिनमें से 1130 बालक तथा 719 बालिकाएं हैं, इनमें से कुल 04 परीक्षार्थियों के परिणाम विभिन्न कारणों से रोके  किए गए हैं। उत्तीर्ण परीक्षार्थियों की कुल संख्या 1740 है जो सम्मिलित परीक्षार्थियों की संख्या का 94.30 प्रतिशत है।
कक्षा दसवीं की हाईस्कूल सर्टिफिकेट मुख्य परीक्षा वर्ष 2018 में कुल नियमित 3 लाख 88 हजार 566 परीक्षार्थी पंजीकृत हुए। इनमें से 3 लाख 81 हजार 737 परीक्षार्थी परीक्षा में सम्मिलित हुए। इनमें एक लाख 76 हजार 547 बालकों सहित 2 लाख 05 हजार 190 बालिकाएं शामिल थीं। इनमें से उत्तीर्ण परीक्षार्थियों की संख्या 2 लाख 58 हजार 573 है। इस प्रकार परिणाम 67.74 प्रतिशत रहा। उत्तीर्ण बालिकाओं का प्रतिशत 69.44 तथा बालकों का 66.42 प्रतिशत है।

दसवीं बोर्ड में सम्मिलित परीक्षार्थियों में प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण परीक्षार्थियों की संख्या 95 हजार 939 है, द्वितीय श्रेणी में उत्तीर्ण परीक्षार्थियों की संख्या 1 लाख 46 हजार 060 है तथा तृतीय श्रेणी में उत्तीर्ण परीक्षार्थियों की संख्या 16 हजार 574 है। 26 हजारी 227 परीक्षार्थियों को पूरक की पात्रता दी गई है। कुल 653 परीक्षार्थियों के परिणाम विभिन्न कारणों से रोके गए हैं। स्कूल शिक्षा विभाग द्वारा वर्ष 2018 में 1137 परीक्षार्थियों को खेलकूद, 563 परीक्षार्थियों को स्काउट-गाइड, 3-एनसीसी, 63-अनुदेशकों सहित कुल 1766 परीक्षार्थियों को बोनस अंक प्रदान किया गया।
मण्डल द्वारा आयोजित हाईस्कूल स्वाध्यायी प्रथम एवं तृतीय अवसर परीक्षा वर्ष 2018 में कुल 4390 परीक्षार्थी पंजीकृत हुए। इनमें से 4387 परीक्षार्थी परीक्षा में सम्मिलित हुए, जिनमें से 2204 बालक तथा 2183 बालिकाएं है, इनमें से कुल 03 परीक्षाथ्रियों के परिणमा विभिन्न कारणों से रोके  किए गए हैं। उत्तीर्ण परीक्षार्थियों की कुल संख्या 1007 है जो सम्मिलित परीक्षार्थियों की संख्या का 23.62 प्रतिशत है।

छत्तीसगढ़ के राज्यपाल बलराम दास टंडन, मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और स्कूल शिक्षा मंत्री केदार कश्यप ने सफल परीक्षार्थियों को बधाई और शुभकामनाएं दी हैं। विफल विद्यार्थियों से उन्होंने अपील की है कि निराश न होते हुए आगे कड़ी मेहनत कर सफलता हासिल करें।

 

 

Leave a Response