भूपेश ने संभाली प्रदेश की सत्ता, टीएस सिंहदेव व ताम्रध्वज भी मंत्री बने

राहुल, मनमोहन और यूपीए के दिग्गजों ने शपथ समारोह में शामिल होकर दिया एकता का संदेश

रायपुर। राजधानी के खचाखच भरे इनडोर स्टेडियम में भूपेश बघेल ने सोमवार को छत्तीसगढ़ के तीसरे मुख्यमंत्री के रूप में शपथ ली। उनके साथ दो अन्य वरिष्ठ विधायकों टीएस सिंहदेव और ताम्रध्वज साहू ने भी मंत्री पद की शपथ ली। इस मौके पर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह सहित अनेक दिग्गज कांग्रेसी और यूपीए के नेता उपस्थित थे।

राज्यपाल आनंदीबेन पटेल ने शाम करीब 6.30 बजे मुख्यमंत्री और दोनों मंत्रियों को पद एवं गोपनीयता की शपथ दिलाई। इस कार्यक्रम की तैयारी साइंस कॉलेज मैदान में की गई थी लेकिन सुबह से हो रही बारिश के कारण शपथ ग्रहण का स्थान और समय बदला गया।

कार्यक्रम में प्रदेशभर से कांग्रेस नेता और कार्यकर्ता बड़ी संख्या में पहुंचे थे। आठ हजार की क्षमता वाला बलवीर सिंह जुनेजा इनडोर स्टेडियम समारोह के दौरान खचाखच भरा था।

पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह, अनुसूचित जनजाति आयोग के अध्यक्ष नंद कुमार साय व पूर्व मंत्री बृजमोहन अग्रवाल भी कार्यक्रम में उपस्थित थे।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं के साथ यूपीए के वरिष्ठ नेता भी विशेष विमान से शपथ ग्रहण समारोह में भाग लेने पहुंचे। उन्हें एक बस में स्वामी विवेकानंद हवाई अड्डे से सभास्थल तक लाया गया। समारोह में शामिल होने वालों में पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवेगौड़ा, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, उप मुख्यमंत्री सचिव पायलट, पुडुचेरी के मुख्यमंत्री नारायण सामी, कर्नाटक के मुख्यमंत्री कुमार स्वामी, मध्यप्रदेश के ज्योतिरादित्य सिंधिया, पूर्व मुख्यमंत्री फारूख अबद्ल्ला, शरद यादव, तेजस्वी यादव, मोतीलाल वोरा, मल्लिकार्जुन खड़गे, पीएल पुनिया, आनंद शर्मा, सचिन पायलट, नवजोत सिंह सिद्धू, मोहसिना किदवई, राजबब्बर, जतिन सिंह, प्रमोद तिवारी, संजय सिंह, एम के प्रेमचंद्रन, आरपीएन सिंह, बाबूलाल मरांडी, नवीन जिंदल, जयवीर शेरगिल, रागिनी नायक, अरुण उरांव, चंदन यादव सहित प्रदेश के सभी प्रमुख कांग्रेस नेता शामिल थे।


शपथ से पहले राहुल गांधी ने मंच पर बैठे पूर्व मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के पास पहुंचकर उनका अभिवादन किया। बघेल भी उनसे मिले। बघेल ने वरिष्ठ नेताओं का पैर छूकर आशीर्वाद लिया। राहुल गांधी ने नए मंत्रिमंडल के सदस्यों के साथ हाथ उठाकर एकता का संदेश दिया। इसी तरह यूपीए के सभी नेताओं ने भी एक साथ हाथ उठाकर एकता दिखाई।

ज्ञात हो कि 17 दिसंबर को ही राजस्थान में गहलोत की सरकार ने शपथ ली। मध्यप्रदेश में भी मुख्यमंत्री कमलनाथ ने मुख्यमंत्री पद की शपथ ली।

 

Leave a Response