सड़कों के लिए  छत्तीसगढ़ को 35,000 करोड़ दिए, अब 40,000 करोड़ और देंगे

टाटीबंध सहित रायपुर-दुर्ग के बीच चार फ्लाईओवर बनेंगे, गडकरी ने किया भूमिपूजन

4,251 करोड़ के निर्माण कार्यों का लोकार्पण

रायपुर। केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने आज कहा कि केन्द्र सरकार ने पिछले 4 बरसों में छत्तीसगढ़ सरकार को सड़क निर्माण के लिए लगभग 35 हजार करोड़ रुपए दिए हैं, अब 40 हजार करोड रूपए दिए जाएंगे। श्री गडकरी ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने वर्ष 2000 में छत्तीसगढ़ सहित तीन नए राज्य बनाए थे, इनमें छत्तीसगढ़ तेजी से विकास कर रहा है।

मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह और केन्द्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने आज दुर्ग जिले के चरौदा नगर में चार हजार 251 करोड़ रुपए के आठ निर्माण कार्यों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया। उन्होंने मनरेगा मजदूर टिफिन योजना के तहत 25 हजार श्रमिकों के लिए को टिफिन वितरण भी शुरू किया। इन्हें मिलाकर विभिन्न योजनाओं के 25, 824 हितग्राहियों के लिए 72.99 लाख रूपए की सामग्री और सहायता राशि वितरण कार्य की शुरूआत की गई।

पैरे का भी बायोफ्यूल के लिए इस्तेमाल करेः

गडकरी ने अपने भाषण में कहा कि छत्तीसगढ़ पूरे देश के लिए बायो फ्यूल हब बन सकता है। नागपुर में लगभग एक हजार ट्रेक्टर बायो फ्यूल से चल रहे हैं। आज आवश्यकता बायो फ्यूल के क्षेत्र में अनुसंधान करने की है। हमने अभी पेट्रोल में एथेनॉल मिलाकर वाहन चलाने का सफल प्रयोग किया है, इसे और अधिक बढ़ावा दिया जाएगा। राज्य में धान के पैरे का उपयोग भी एथेनॉल निर्माण में किया जा सकता है, इससे किसानों को फायदा होगा साथ ही पेट्रोल के दाम भी कम होंगे।

मुख्यमंत्री ने समारोह की अध्यक्षता करते हुए कहा कि छत्तीसगढ़ में सड़कों का जाल बिछाने में केन्द्रीय मंत्री गडकरी का महत्वपूर्ण योगदान है। देश की आजादी से वर्ष 2014 तक राज्य में जितनी सड़कों का निर्माण हुआ उससे दस गुना ज्यादा सड़कों का निर्माण पिछले चार वर्षों में हुआ है। छत्तीसगढ़ में पहले तीन से चार मीटर चौड़ाई की सड़कें बनती र्थी। कई राजमार्ग मिट्टी के थे। अब छत्तीसगढ़ में दस मीटर चौड़ी सड़कें बन रही हैं।  समारोह में मुख्यमंत्री के आग्रह पर केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने दो हजार 218 करोड़ की लागत से 442 किलोमीटर की 5 सड़कों तथा 4 बायपास मार्ग का उन्नयन और 5 नये बायपास मार्ग निर्माण की स्वीकृति की घोषणा की।

 इन सड़कों को मिली मंजूरीः-  

-268.11 करोड़ की लागत की झलमला से सेरपुर तक 37 किलोमीटर सड़क।

-169 करोड़ की लागत की मदनगुड़ा से खुटागांव 27.60 किलोमीटर (छत्तीसगढ़-ओडिशा सीमा)।

-368.70 की लागत की शेरपार से कोहका तक 47 किलोमीटर।

-304 करोड़ की लागत की मुंगेली से पोंडी तक 42 किलोमीटर सड़क।

– 262.98 करोड़ की लागत की अभनपुर से पोंड 31 किलोमीटर सड़क उन्नयन कार्य।

– 229 करोड़ की लागत की तखतपुर, मुंगेली, पंडरिया, पोंडी के बायपास मार्ग के उन्नयन कार्य की स्वीकृति की घोषणा की।

– 458 करोड़ रुपए की लागत से  कोण्डागांव, जगदलपुर शहर, लखनपुर, कवर्धा और बेमेतरा में नए बायपास।

इन कार्यों का लोकार्पणः-

– करोड़ रूपए की लागत से आरंग-सरायपाली मार्ग (राष्ट्रीय मार्ग-53),

-48 करोड़ रूपए की लागत से रायपुर-दुर्ग मार्ग का चौड़ीकरण (राष्ट्रीय मार्ग-53) लागत राज्य प्रवर्तित योजना अंतर्गत 9.98 करोड़ रूपए की लागत से चरौदा में पालिका बाजार,

-1.62 करोड़ रूपए की लागत से वार्ड क्रमांक 18 व 19 में सामुदायिक भवन और

-चरौदा में ही 50 लाख रूपए की लागत से उद्यान निर्माण शामिल हैं।

इन स्वीकृत कार्यों का भूमिपूजन-

-2281 करोड़ रुपए की लागत से रायपुर-दुर्ग बायपास (राष्ट्रीय मार्ग-53) का निर्माण,

-349 करोड़ रूपए की लागत से रायपुर-दुर्ग के मध्य चार फ्लाई ओव्हर निर्माण कार्य और

-89 करोड़ रूपए की लागत से रायपुर शहर के टाटीबंध जंक्शन पर फ्लाई ओव्हर का भूमिपूजन

इस अवसर पर उच्च शिक्षा मंत्री प्रेमप्रकाश पांडेय, लोक निर्माण मंत्री राजेश मूणत, महिला एवं बाल विकास मंत्री रमशीला साहू, सांसद अभिषेक सिंह सहित अनेक जनप्रतिनिधि और बड़ी संख्या में आम नागरिक उपस्थित थे।

 

 

Leave a Response